इन 5 दिग्गजों को Cricket में मिली ‘सर’ की उपाधि, एक ने कहा दुनिया को अलविदा

By Sangeeta Tiwari On April 7th, 2023

इन 5 दिग्गजों को Cricket में मिली 'सर' की उपाधि, एक ने कहा दुनिया को अलविदाइन 5 दिग्गजों को Cricket में मिली 'सर' की उपाधि, एक ने कहा दुनिया को अलविदा

Cricket की प्रत्येक पीढ़ी के दौरान एक से बढ़कर एक दिग्गज खिलाड़ी सामने आए हैं। फिर चाहे बात सर डोनाल्ड ब्रैडमेन की हो रही हो, यह सचिन तेंदुलकर की। लेकिन इन क्रिकेटरों में से बहुत ही कम ऐसे क्रिकेटर रहे हैं, जो ‘सर’ की उपाधि से नवाजे गए है। लेकिन इनमें से कई ऐसे भी खिलाड़ी रहे हैं, जो बिना सर की उपाधि के भी क्रिकेट जगत के महान खिलाड़ियों में शामिल रहे। महेंद्र सिंह धोनी से लेकर फाफ डू प्लेसिस तक कई ऐसे दिग्गज खिलाड़ी हुए हैं, जिन्हें बिना ‘सर’ की उपाधि के भी क्रिकेट जगत की शोभा बढ़ाने में कामयाब रहे हैं। आज इस आर्टिकल के जरिए पांच ऐसे खिलाड़ियों के बारे में बताएंगे, जो सर की उपाधि से नवाजे गए है।

यह पांच क्रिकेटर नवाजे गए सर की उपाधि से

किसी एक व्यक्ति को उसकी उपलब्धियों और सेवाओं के लिए ब्रिटिश राजा या रानी के द्वारा नाइटहुड यानी ‘सर’ की उपाधि से नवाजा जाता है। नाईट होने के बाद कोई भी व्यक्ति अपने नाम से पहले मिस्टर की जगह सर लगा सकता है। आज आपको ऐसे ही पांच क्रिकेटरों के बारे में बताएंगे, जिन्हें नाइट की उपाधि से नवाजा गया।

सर डोनाल्ड ब्रैडमेन

ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज खिलाड़ी सर डोनाल्ड ब्रैडमैन टेस्ट फॉर्मेट में 99.94 की औसत से आज भी एक वर्ल्ड रिकॉर्ड के तौर पर कायम है। उनके द्वारा साल 1928 से लेकर 1948 तक क्रिकेट खेलते हुए 52 टेस्ट मुकाबले खेले गए। इस दौरान वे 99.4 की औसत की सहायता से 6,996 रन बनाने में भी कामयाब रहे, जिसमें 29 शतक और 13 अर्धशतक भी दर्ज हैं।

उनके शानदार प्रदर्शन और योग्यता को देखते हुए डोनाल्ड ब्रैडमेन को साल 1949 में नाइट की उपाधि से नवाजा गया था। जिसके बाद सर डोनाल्ड ब्रैडमेन के नाम से उन्हें जाना जाता है। साल 2001 में 92 की उम्र में यह खिलाड़ी दुनिया को अलविदा कह गया।

गारफील्ड सोबर्स

वेस्टइंडीज के दिग्गज खिलाड़ी गारफील्ड सोबर्स एक ऐसे क्रिकेटर रहे हैं, जिनके द्वारा मात्र एक ही वनडे मुकाबला खेला गया। साल 1954 से लेकर 1974 तक वेस्टइंडीज की तरफ से क्रिकेट खेलने वाले गारफील्ड सोबर्स द्वारा 93 टेस्ट मुकाबलों में 57.78 की औसत के साथ 8,032 रन बनाए गए। इसके साथ ही वह 34.03 की औसत के साथ 235 विकेट लेने में कामयाब रहे। साल 1975 में उनके क्रिकेट करियर को देखते हुए उन्हें नाइट की उपाधि से नवाजा गया था। जिसके चलते उनके नाम के आगे सर लग गया था।

रिचर्ड हैडली

1973 से लेकर 1990 तक क्रिकेट खेलते हुए न्यूजीलैंड के रिचर्ड हैडली 86 टेस्ट और 115 वनडे मुकाबले खेलने में कामयाब रहे। उनके द्वारा टेस्ट में 27.16 की औसत से 3,112 रन और 22.29 की औसत से 431 विकेट और वनडे के दौरान 21.61 की औसत से 1751 रन के साथ 21.56 की औसत से 158 विकेट लेने में कामयाब रहे। साल 1990 में वह नाइट की उपाधि से नवाजे गए। जिसके चलते उनके नाम के आगे सर जुड़ गया था।

विवियन रिचर्ड्स

वेस्टइंडीज के धाकड़ खिलाड़ी विवियन रिचर्ड्स के सामने गेंदबाजी करते समय बड़े से बड़े गेंदबाजों के पसीने छूट जाते थे। वेस्टइंडीज के लिए उनके द्वारा साल 1974 से लेकर 1991 तक क्रिकेट खेलते हुए कुल 121 टेस्ट मुकाबले खेले गए थे। जिसमें वह 50.23 की औसत के साथ 8,540 रन बनाने में कामयाब रहे। उनके द्वारा 47.00 की औसत के साथ 187 मुकाबले खेलते हुए 6,721 रन बनाए गए। साल 1999 में उनके बेहतरीन प्रदर्शन को देखते हुए उन्हें नाइट की उपाधि से नवाजा गया था।

एलास्टेर कुक

साल 2019 में इंग्लैंड के पूर्व कप्तान एलेस्टेयर कुक को नाइट की उपाधि से नवाजा गया था। इंग्लैंड के लिए साल 2006 से लेकर साल 2018 तक क्रिकेट खेलते हुए उनके द्वारा कुल 161 टेस्ट मुकाबलों के दौरान 45.35 की औसत के साथ 12,472 रन, वनडे के दौरान 36,40 की औसत से 92 मुकाबलों में 3,204 रन बनाए गए। 9 साल की उम्र में ही यह खिलाड़ी क्रिकेट से संन्यास ले चुका था।

Read Also:-लाइव मैच के दौरान मैदान में जैकेट सूंघते हुए नजर आए आर अश्विन, वजह जानकर आप भी रह जाएंगे दंग