ऑस्ट्रेलिआई स्पिनर शेन वॉर्न ने 52 साल की उम्र में दुनिया को अलविदा कह दिया है। शेन वॉर्न (Shane Warne) का पूरा जीवन ही कहानियों से भरा हुआ है। उन्होंने अपने जीवन में वो सब हासिल किया, जिसकी एक क्रिकेटर को आवश्यकता होती है। उनके पास वह कला थी कि वो किसी भी बल्लेबाज का विकेट चटका सकें, लेकिन भारत के दिग्गज बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर से शेन वॉर्न भी डरते थे।

सचिन ने जमकर की थी कुटाई

बता दें कि साल 1998 के कोका कोला कप के आखिरी दो मुकाबलों में सचिन तेंदुलकर ने शेन वॉर्न की जमकर धुनाई की थी। सचिन ने चारों तरफ स्ट्रोक लगाए थे। उनकी बैटिंग देखकर हर कोई हैरान था। इसके बाद सचिन तेंदुलकर ने 24 अप्रैल को फाइनल में भी 134 रनों की पारी खेली थी। सचिन की इन पारियों के बाद शेन वॉर्न ने खुद इस बात का खुलासा किया था कि सचिन तेंदुलकर उनके सपनों में आया करते थे और सपने में उन्हें छक्का मारकर डराया करते थे।

वॉर्न की ये गेंद थी बॉल ऑफ द सेंचुरी

शेन वॉर्न ने अपने पूरे करियर में कई शानदार गेंदें फेंकी, लेकिन उनकी एक गेंद ऐसी थी, जिसे आज तक और कोई भी दूसरा बॉलर नहीं फेंक सका है। बता दें कि 1993 में एशेज सीरीज में शेन वॉर्न ने इंग्लैंड के धाकड़ बल्लेबाज माइक गैटिंग को एक ऐसी गेंद फेंकी, जिसे देखकर पूरी दुनिया हैरान हर गई, जिसे आज कोई भी दूसरा बॉलर फेंक नहीं सका है। ये गेंद बहुत ही ज्यादा टर्न और माइक का विकेट ले उड़ी, जिसे बॉल आफ द सेंचुरी कहा गया है।

बिना शतक के सबसे ज्यादा रन वाले क्रिकेटर

शेन वॉर्न ने टेस्ट क्रिकेट में 3154 रन भी बनाए, जो बिना शतक के किसी भी बल्लेबाज के सबसे ज्यादा रन का वर्ल्ड रिकॉर्ड है। वार्न ने टेस्ट क्रिकेट में 12 फिफ्टी बनाई, लेकिन उनका हाईएस्ट स्कोर 99 रन पर ही रह गया, जो उन्होंने 2001 में न्यूजीलैंड के खिलाफ पर्थ टेस्ट में बनाया था। वनडे में भी उन्होंने 1018 रन बनाए। शेन वॉर्न के  नाम पर टेस्ट और वनडे, दोनों में बल्ले से 1000 से ज्यादा रन और गेंद से 200 से अधिक  विकेट दर्ज हैं।

700 टेस्ट विकेट लेने वाले पहले गेंदबाज

शेन वार्न ने अपने करियर के दौरान 145 टेस्ट मैच में 708 विकेट लिए थे, जबकि 194 वनडे मैचों में 293 विकेट उनके खाते में दर्ज किए गए थे। टेस्ट क्रिकेट में विकेट लेने के लिहाज से श्रीलंका के मुथैया मुरलीधरन (muttiah muralitharan) के बाद दूसरे नंबर के गेंदबाज वार्न ने उनसे पहले 700 विकेट पूरे किए थे। वे गेंदबाजी के इस ऊंचे शिखर को छूने वाले दुनिया के पहले गेंदबाज बने थे।

ये भी पढें-Big Breaking: दिग्गज स्पिनर शेन वॉर्न ने 52 साल की उम्र में कहा दुनिया को अलविदा